0

Nafrat Shayari

उसने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया, 

कितने रिश्ते उसकी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया, 

कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें  मैंने था अपनाया है, 

कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया ..

 

Usne Nafrat Se Jo Dekha Hai To Yaad Aaya,

Kitne Rishte Uski Khatir Yun Hi Tod Aaya,

Kitne Dhundhle Hain Ye Chehre Jinhen mene tha Apnaya,

Kitni Ujli Thi Wo Aankhen Jinhen Chhod Aaya

 

 

कभी उसने भी हमें मोहब्बत का पैगाम लिखा था,

सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था,

सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है,

जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था

 

Kabhi Usne Bhi Mohabbat

Kabhi Usne Bhi Hamen Mohabbat Ka Paigaam Likha Tha,

Sab Kuchh Usne Apna Hamare Naam Likha Tha,

Suna Hai Aaj Unko Hamare Jikr Se Bhi Nafarat Hai,

Jisne Kabhi Apne Dil Par Hamara Naam Likha Tha.

 

 

R.k.khan

R. K. Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *