Sat. Sep 19th, 2020

Latest bewafa shayari

3 min read
bewafa shayari

Bewafa shayari

 Ak Bewafa Se Dil…..

Ak Bewafa Se Dil Laga Liya Nadaan The Hum,
Galti Humse Hui KyunKi Insaan The Hum,
Aaj Jinhein Najrein Milaane Mein Takleef Hai,
Kuchh Samay Pehle Usi ke Jaan The Hum.

!! एक बेवफा से दिल लगा लिया नादान थे हम
गलती हमसे हुवी क्युकी इंसान थे हम
आज जिन्हे नजरे मिलाने में तकलीफ होती है
कुछ समय पहले उसी की जान थे हम !!

 

Bewafa shayari, Hako Na Mohabbat…..

Hako Na Mohabbat Mili Na he pyaar Mila,
Hum Ko Jo Bhi Mila Bewafa Yaar Mila,
Apni Toh Ban Gayi Tamasha Zindgi,
Har Koyi Maqsad Ka Talabgaar Mila.

!! हमको ना मोहब्बत मिली ना ही प्यार मिला,
हमको जो भी मिला बेवफा यार मिला,
हमारी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,
हर कोई यहां मकसद का तलबगार मिला !!

Raat Ki Gehrayi Aankhon….

Raat Ki Gehrayi Aankhon Mein Utar Aayi,
Kuchh Khwaab hai jhutey Aur Kuchh Meri Tanhai,
Yeh Jo Palko Se Bah Rahe Hain Halke Halke Aanshu,
Kuchh Toh Majboori hai Kuchh Teri Bewafai.

!! रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब है झूठे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के आंसू,
कुछ तो मजबूरी है कुछ तेरी बेवफाई !!

 

Bewafa shayari, Achha Hota Us bewafa..

Achha Hota Jo Us bewafa Se Pyaar Na Hua Hota,
Chain Se Rehte Hum Jo uska Deedar Na Hua Hota,
Aaj Pahunch Chuke Hote Apni Manzil Par,
Agar Uss Bewafa Par Aitbar Na Hua Hota.

!! अच्छा होता जो उस बेवफा से प्यार न हुआ होता,
चैन से रहते हम जो उसका दीदार ना हुआ होता,
आज पहुँच चुके होते अपनी मंज़िल पर,
अगर उस बेवफा पर ऐतबार न हुआ होत !!

Bewafa shayari

Kabhi Kareeb to Kabhi..

Kabhi Kareeb to Kabhi Juda Hai Tu.
Jnae Kis Kis se Khafa Hai Tu.
Bewafa Mujhe to Tujh Par Khud se jayada Yakin Thha,
Par Jamana Such he Kehta Thha ke Bewafa Niklegi Tu.

!! कभी करीब तो कभी जुदा है तूं
जाने किस किस से खफा है तू
मुझे तो तुझ पे खुद से ज्यादा यकीं था
पर जमाना सच ही कहता था की बेवफा निकलेग तू !!

 

Bewafa shayari, Kaha se Laou Hunar..

Kaha se Laou Hunar Use Manane Ka.
Koi Jwaab Nahi Thha Uske Ruth Jane ka.
Mohabbat Me Saja Mujhe he Milti thhi.
Kyuki Jurm Mene he kiya thha us Bewafa se Dil Lagene ka..

!! कहाँ से लाऊ हुनर उसे मनाने का
कोई जवाब नही था उसके रूठ जाने का
मोहब्बत में सज़ा मुझे ही मिलती थी
क्युकी जुर्म मैंने ही किया था उस बेवफा से दिल लगाने का !!

bewafa shayari

Bewafa shayari, Har Pal Kuchh Sochte..

Har Pal Kuchh Sochte Rahne Ki Adat Ho Gayi Hai,
Har Ahat Par Chuk Jaane Ki Ahat Ho Gayi Hai,
Tere Ishq Me Ai Bewafa, Hijr Ki Raaton Ke Sang,
Humko Bhi Jagte Rahne Ki Adat Ho Gayi Hai.

!हर पल कुछ सोचते रहने की आदत हो गयी है,
हर आहट पे चौंक जाने की आदत हो गयी है,
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग,
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है। !!

 

Na Puchh Mere Sabra..

Na Puchh Mere Sabra Ki Inteha Kahan Tak Hai,
Tu Sitam Kar Le Teri Hasrat Jahan Tak Hai,
Wafa Ki Umeed Jinhe Hogi Unhe Hogi,
Hame To Dekhna Hai Tu Bewafa Kahan Tak Hai.

!!  न पूछ मेरे सब्र की इन्तहां कहाँ तक है,
तू सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक है,
वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी,
हमे तो देखना है तू बेवफा कहाँ तक है। !!

bewafa shayari

Insaan Ke Kandho Par..

Insaan Ke Kandho Par Insaan Ja Raha Tha,
Kafan Me Lipata Hua Armaan Ja Raha Tha,
Jise Bhi Mili Bewafai Mohabbat Me,
Wafa Ki Talash Me Shamshaan Ja Raha Tha.

!! इंसान के कंधो पर इंसान जा रहा था,
कफ़न में लिपटा हुआ अरमान जा रहा था,
जिसे भी मिली बेवफाई मोहब्बत में,
वफ़ा कि तलास में शमसान जा रहा था। !!

 

Mohabbat na  sahi Tanhayi

Mohabbat na  sahi Tanhayi To Milti hai.
Milan Na Sahi Judayi to Milti hai.
Kon Kehta Hai Mohabbat me Kuch nahi Milta,
Wafa Na Sahi Bewafa To Milti hai.

!! मोहब्बत न सही तन्हाई तो मिलती हे
मिलन न सही जुदाई तो मिलती हे
कौन कहता हे मोहब्बत में कुछ नहीं मिलता
वफ़ा न सही बेवफाई तो मिलती है !!

bewafa shayari

Apke Liye Meri Chahat…

Apke Liye Meri Chahat Kabhi Kam Na Hoti,
Agar Aap Etni SangDil or Bereham Na Hoti,
Tumhe Apne Dil Me Rakhta Dil-Ruba Banakar,
Agar Apke jhutey Wadey or Jhuti Kasam Na Noti

!! आपके लिए मेरी चाहत कभी कम न होती,
अगर आप इतनी संगदिल और बेरहम न होती।
तुम्हे अपने दिल में रखता दिल-रुबा बनाकर ,
अगर आपके झूठे वादे और झूठी कसम न होती !!

 

Gairo Se Dil Laga ke..

Gairo Se Dil Laga ke Humko Bhula Diya,
Dil pe Hmare Tune Khanjar Chla Diya,
O Bewafa Tune Ye Kiasa Sitam Kiya,
Dil Ko Hmare Tune Jakhmi Bana Diya..

!! गैरों से दिल लगा के हमको भुला दिया
दिल पे हमारे तूने खंजर चला दिया
ओ बेवफा तूने ये कैसा सितम किया
दिल को हमारे तुमने जख्मी बना दिया !!

Mene Bhi Kise se Pyaar

Mene Bhi Kise se Pyaar Kiya Thha.
Raho Me Unka Intijaar Kiya Thha.
Hume Kya Pata Thha Vo Bhul Jayngi Humey,
Kasoor Uska Unka Nahi Hmara Thha,
JO ak Bewafa Se Jaan Se Jyada Pyar Kiya Thha.

!! मैंने भी किसी से प्यार किया था
रहो में उनका इंतजार किया था
हमें क्या पता वो भूल जाएँगे हमें
कसूर उनका नहीं मेरा ही था
जो एक बेवफा जान से से प्यार किया था !!

Bewafa Shayari, Mere Dil Ko Ab kisi..

Mere Dil Ko Ab kisi se Gila nahi.
Dil Se  Jise Chaha vo mujhe Mila Nahi.
Badnaseeb Kahu ya Waqt Ke Bewafayi,
Andhre me ak Deepak Mila Par Vo Jala Nahi.

!! मेरे दिल को अब किसी से गिला नहीं ,
मन से जिसे चाहा वो मुझे मिला नहीं ,
बद नसीबी  कहूँ या वक्त की बेवफाई ,
अँधेरे में एक दीपक मिला पर वो जला नही !!

Bewafa Shayari, Mat Rakh Humse Wafa

Mat Rakh Humse Wafa Ke Ummed
Humne Har Dum Bewafayi Payi hai.
Mat Dhoond Hmare Jism Pe Jakham Ke Nisaan.
Humne Har Chot DIL Pe Khayi hai.

!! मत रख हमसे वफा की उम्मीद,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है !!

मोहब्बत से रिहा होना ज़रूरी हो गया है,
मेरा तुझसे जुदा होना ज़रूरी हो गया है,
वफ़ा के तजुर्बे करते हुए तो उम्र गुजरी,
ज़रा सा बेवफा होना ज़रूरी हो गया है

Comming Soon More Shayari…………………..

Read More Sad Shayari in Hindi…

Read More About Best Romantic Shayari….

1 thought on “Latest bewafa shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *