Fri. May 22nd, 2020

Bewafa Shayari

1 min read
Bewafa Shayari

Kabhi Kareeb to Kabhi..

Kabhi Kareeb to Kabhi Juda Hai Tu.
Jnae Kis Kis se Khafa Hai Tu.
Bewafa Mujhe to Tujh Par Khud se jayada Yakin Thha,
Par Jamana Such he Kehta Thha ke Bewafa Niklegi Tu.

!! कभी करीब तो कभी जुदा है तूं
जाने किस किस से खफा है तू
मुझे तो तुझ पे खुद से ज्यादा यकीं था
पर जमाना सच ही कहता था की बेवफा निकलेग तू !!

ज़रा सा बेवफा होना…

मोहब्बत से रिहा होना ज़रूरी हो गया है,
मेरा तुझसे जुदा होना ज़रूरी हो गया है,
वफ़ा के तजुर्बे करते हुए तो उम्र गुजरी,
ज़रा सा बेवफा होना ज़रूरी हो गया है

Kaha se Laou Hunar..

Kaha se Laou Hunar Use Manane Ka.
Koi Jwaab Nahi Thha Uske Ruth Jane ka.
Mohabbat Me Saja Mujhe he Milti thhi.
Kyuki Jurm Mene he kiya thha us Bewafa se Dil Lagene ka..

!! कहाँ से लाऊ हुनर उसे मनाने का
कोई जवाब नही था उसके रूठ जाने का
मोहब्बत में सज़ा मुझे ही मिलती थी
क्युकी जुर्म मैंने ही किया था उस बेवफा से दिल लगाने का !!

Bewafa shayari

Har Pal Kuchh Sochte..

Har Pal Kuchh Sochte Rahne Ki Adat Ho Gayi Hai,
Har Ahat Par Chuk Jaane Ki Ahat Ho Gayi Hai,
Tere Ishq Me Ai Bewafa, Hijr Ki Raaton Ke Sang,
Humko Bhi Jagte Rahne Ki Adat Ho Gayi Hai.

!हर पल कुछ सोचते रहने की आदत हो गयी है,
हर आहट पे चौंक जाने की आदत हो गयी है,
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग,
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है। !!

Na Puchh Mere Sabra..

Na Puchh Mere Sabra Ki Inteha Kahan Tak Hai,
Tu Sitam Kar Le Teri Hasrat Jahan Tak Hai,
Wafa Ki Umeed Jinhe Hogi Unhe Hogi,
Hame To Dekhna Hai Tu Bewafa Kahan Tak Hai.

!!  न पूछ मेरे सब्र की इन्तहां कहाँ तक है,
तू सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक है,
वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी,
हमे तो देखना है तू बेवफा कहाँ तक है। !!

Insaan Ke Kandho Par..

Insaan Ke Kandho Par Insaan Ja Raha Tha,
Kafan Me Lipata Hua Armaan Ja Raha Tha,
Jise Bhi Mili Bewafai Mohabbat Me,
Wafa Ki Talash Me Shamshaan Ja Raha Tha.

!! इंसान के कंधो पर इंसान जा रहा था,
कफ़न में लिपटा हुआ अरमान जा रहा था,
जिसे भी मिली बेवफाई मोहब्बत में,
वफ़ा कि तलास में शमसान जा रहा था। !!

R. K. KHAN

3 thoughts on “Bewafa Shayari

  1. Hi R.K.KHAN,

    Really Very Heart Tuching Shayari when i Read this shayari i was feld in my Past Really …..?

    “”Na Puchh Mere Sabra..”” I love this Shayari..
    Thank’s Sir Thank’s ………….. Kabhi Pyaa Nahi Karna Chahiye Har Ladki Bewafa Hoti h sali Piaso ke Bhuki Hoti Sub …….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *