Sat. Sep 19th, 2020

एक बेवफा से वफा की उम्मीद सरे आम की है

1 min read
Bewafa se wafa ke Ummeed

Aj Fir Apni Ak Kavita Mene Tere Naam Kee Hai

 Bewafa se wafa ke Ummeed Sare-aam Ke Hai

आज फिर अपनी एक कविता मैंने तेरे नाम की है ,

एक बेवफा से वफा की उम्मीद सरे आम की है,

अब लोग भी वाकिफ है तेरी हरकतों से तो मैं क्या करूं,

वरना मैंने तो तुझे अच्छा दिखाने की कोशिश कई बार की है,

 

तूने तो ठान ही ली थी अलग होने की शायद 

वरना मैंने तो तुझे समझाने की कोशिश कई बार की है, 

एक बेवफा से वफा की उम्मीद सरेआम की है।

 

अक्षर अपनी गलती छुपाने के लिए  बहुत झूठ बोले तूने ,

पर हमेशा तूने मेरी सच्चाई नीलाम की है 

एक बेवफा से वफ़ा की उम्मीद सरे आम की है।

 

कहता है क्यों सुकून नहीं है जिंदगी में मेरी 

भूल गई तेरे पीछे मैंने भी अपनी कई रातें हराम की है, 

एक बेवफा से वफा की उम्मीद सरे आम की है।

 

” Aaj fir Maine Apni ek kavita Tere Nam ki Hai
Ek Bewafa se Wafa ki Ummid sare Aam ki Hai  
Ab log bhi Wakif h Teri Harkato se to m kya kru  
Warna maine to tuje aacha dikha ne ki kosis kayi bar ki Hai 

Tune to Thaan he le Thhi Alag hone ke Mujhse sayad
Warna Mene to tujhe sajhane ke kosis kayi baar ki hai

Akshar apni galti chhupane ke Ke liye bahut jhut bole tune
Par Hesha Tune Meri Suchhayi Neelaam Ke Hai
Ek Bewafa se Wafa ki Ummid sare Aam ki Hai

 

Kehta Hai Kyu Sakoon Nahi Hai Jindgi Me Meri
Bhul Gayi Tere Peeche Maine Apni Kayi Ratia Hraam Kee Hai
Ek Bewafa se Wafa ki Ummid sare Aam ki Hai “………..

 

Bewafa se wafa ke Ummeed Sare-aam Ke Hai Video CLICK HERE  

Bahu Pyaar Hai Tujhse Esliye Door Jana HAI CLICK HERE

Read More Best Bewafa Shayari

 

R.K.KHAN

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *