0

Attitude Shayari

इज्जत मै सबकी करता हू सबको भाव देता हू ,

मगर किसी को इतना भी भाव नहीं देता की ,

लोग मुझे ही रद्दी के भाव समझने लगे…

 

Ijjat Me Subki Karta hu, Subko Bhaaw Deta Hu.

Magar Kise Ko Etna Bhi Bhaaw Nahi Deta Ke,

Log Mujhe He Raddhi Ke Bhaaw Smajhne Lagey

 

हम खुद को इतना बदल लेंगे एक दिन,

लोग तरस जायेंगे हमे पहले जैसा देखने क लिए…

 

Hum Khud Ko Etna Badal lenge Ak Din,

Log Tras Jayenge Hume Pehla Jaisa Dekhne K liye

Attitude Shayari

जहाँ कदर न हो अपनी वहाँ जाना फ़िज़ूल है,

चाहे किसी का घर हो चाहे किसी का दिल।

 

Jaha kadr na ho apna wha jaana fijool hai

Chahe kisi ka ghr ho chahe kisi ka dil

 

!! जिंदगी का जीने का असली मजा तो तब आता है दोस्त,

जब दुश्मन भी आपसे हाथ मिलाने को बेताब रहे !!

 

Mujhe Tu Apna Bna Ya Na Bana Teri Khushi,

Tu Jmane Me Mere Naam Se Badnaam To Hai

 

मुझे तू अपना बना या न बना तेरी खुशी,

तू ज़माने में मेरे नाम से बदनाम तो है।

Attitude Shayari

Kuch Cheeje Piaso Se Nahi Mila KartiHai,

Or Hum Unhi Cheejo Ka Shouk Rakhte Hai,

 

!! कुछ चीज़े पैसो से नही मिला करती हैं,

और हम उन्ही चीज़ों का शौक रखतें हैं

 

Vo To Meri Sharifi Hai Jo Mai Kise Se Darta Nahi,

Warna Subko Pata Hai Mai Kise K Baap Se v Darta Nahi,

 

!! वो तो मेरी शरीफी है, जो मैं किसी से डरता नही,

वरना सबको पता है, मैं किसी के बाप से भी डरता नही!!

 

 

R. K. Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *